सीटू कामकाजी महिलाओं के आव्हान पर जेल भरो आंदोलन

8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 
आज 6 मार्च को सीटू कामकाजी महिलाओं के आव्हान पर जेल भरो आंदोलन के तहत आशा,उषा सहयोगी एकता यूनियन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता,सहायिका एकता यूनियन घरेलू कामकाजी  व अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति महिलाओं  के साथ बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलायें भी सड़कों पर गिरफ्तारी देने उतरी!
आंदोलन के दौरान निम्नलिखित मांगों को उठाया गया | 
 आंगनबाड़ी,आशा,उषा योजना कर्मी महिलाओं को सम्मान जनक वेतन व सरकारी कर्मचारी का दर्जा दो, सीएए, एन आर सी, एनपीआर जैसे संविधान विरोधी कानून रद्द करो, घरेलू कामगार महिलाओं के कार्ड रिन्यू कर उस पर सरकारी योजनाओं का लाभ दो,
श्रम कानूनों को बहाल करो, महिलाओं पर हिंसा और बर्बरता रोकने के लिये ठोस कदम उठाओ,संसद और विधाईकाओं में 33 प्रतिशत आरक्षण दो, घरेलू महिलाओं की मेहनत को जीडीपी में जोड़ो,देश में अभिव्यक्ति की आज़ादी पर रोक लगाना बंद करो!
समान काम का समान वेतन दो, विभाजनकारी राजनीति खत्म कर अमन भाईचारा कायम करो
की मांगों को लेकर गिरफ्तारी दी गई!
कार्यक्रम को समर्थन देने महिला फेडरेशन  की सारिका श्रीवास्तव और एटक के साथी, मुखौटा कला मंच के विष्णु झा उपस्थित थे | कार्यक्रम को सीटू के राज्य नेता विष्णु शर्मा जी ने भी सम्बोधित किया!