समाजवादी समागम ने  नर्मदा बचाओ आंदोलन के कार्यकर्ताओं की तत्काल रिहाई की मांग की ।

 


समाजवादी विचार यात्रा 40वे दिन ओंगोल होते हुए गुंटूर पहुंची


प्रधानमंत्री मोदी ने भारत का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डुबो दिया है


30 जनवरी को गांधी स्मृति, दिल्ली से निकली भारत जोड़ो - संविधान बचाओ समाजवादी विचार यात्रा, 40वें दिन ओंगोल होते हुए गुंटूर पहुंची। गुंटूर में आंध्र प्रदेश के यात्रा संयोजक रत्नम  बुरागा, प्रत्यूष सुब्बाराव (मनोवैज्ञानिक प्रशिक्षक), अधिवक्ता वाइ के, ऊषा (बहुजन नेता), डॉ अंजैया (बहुजन नेता), येसु बाबू (पिछड़ा जाति संगठन) और बशीर (जे ए सी) ने यात्रियों का स्वागत किया।


 इसके पहले ओंगोल प्रेस क्लब में यात्रियों ने प्रेस वार्ता को  संबोधित  किया । 
प्रेस को संबोधित करते हुए डॉ सुनीलम ने कहा की ऐसा पहली बार हुआ है की संयुक्त राष्ट्र, यूरोपियन यूनियन और अमरीका की तमाम शासकीय संस्थाओं सहित तमाम देशों  ने भारत सरकार की  नीतियों की निंदा की है, सभी  ने नागरिकता  संशोधन कानून को भेदभाव पूर्ण बताया है। पहली बार  भारत के किसी प्रधानमंत्री को  अपना दौरा रद्द करना पड़ा , 17 मार्च  को वे  ढाका जा रहे थे ,पूरा  बांग्लादेश  उनके दौरे के खिलाफ प्रदर्शन कर  रहा है। यह दर्शाता है की प्रधानमंत्री मोदी ने भारत का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डुबो दिया है।


 डॉ सुनीलम ने उत्तर प्रदेश में हिंसा के आरोप में सी ए ए आंदोलनकारियों के लगाए गए पोस्टरों को हटाने के इलाहाबाद कोर्ट के निर्णय का स्वागत किया।


महिमा गार्डन्स, गुंटूर में बैठक का आयोजन किया गया। 
बैठक को संबोधित करते हुए यात्रा संयोजक अरुण श्रीवास्तव ने समाजवादी, गांधीवादी, सर्वोदयी, वामपंथी, अंबेडकरवादी विचारधारा से जुड़े जन आंदोलनकारियों, मानव अधिकारवादियों, पर्यावरणवादियों एवं सभी लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता में विश्वास रखने वाले संगठनों और व्यक्तियों से स्वतंत्रता आन्दोलन, समाजवादी आन्दोलन एवं संवैधानिक मूल्यों की पुर्नस्थापना हेतु एकसाथ मिलकर  काम करने की अपील की। 
डॉ सुनीलम ने 5 अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार द्वारा लिए गए अलोकतांत्रिक फैसले के 218 दिन पूरे होने के अवसर पर डॉ सुनीलम ने 3 पूर्व मुख्यमंत्री सहित सभी राजनैतिक बंदियों की तुरंत रिहाई कर कश्मीर समस्या से जुड़े सभी लोगों के साथ बातचीत की प्रक्रिया शुरू करने और चुनावी प्रक्रिया शरू करने की केंद्र सरकार से मांग की। 
समाजवादी समागम की ओर से,
 डॉ सुनीलम ने सभी को होली की शुभकामनाएँ दी और कहा की वे आशा करते है की होली का त्योहार लोगों के मन में नफरत और घृणा को नष्ट करने जख्मों में मलहम लगाने का  काम करेगा। 


अधिवक्ता आराधना भार्गव ने धुले और नंदुरबार जेल में बंद लतिका, दिकीबाई समेत सभी नर्मदा बचाओ के कार्यकर्ताओं की तत्काल  रिहाई की मांग की ,जो होली के अवसर पर सरदार सरोवर बांध के सलाहकार के तौर पर नियुक्त किये गए अफ़रोज़ अहमद के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। सी बी आई जांच में अफ़रोज़ अहमद की डिग्री नकली पाई गयी है और ऑडिटर्स रिपोर्ट में उन्हें धांधली करते हुए पाया गया। 
रत्नम  ने उपस्थित जनसमुदाय  से अपील की कि वे एक समता पूर्ण  और वितरणात्मक  न्याय आधारित  समाज बनाने  के लिए काम करें । उन्होंने कृषि उत्पादों  के लाभकारी मूल्य, युवाओं के लिए सरकारी रोज़गार और खेतीहर मज़दूरों के लिए 6 एकड़ ज़मीन की मांग की।


कार्यक्रमों में  यात्री रोहन गुप्ता (झारखण्ड), बाले भाई (मध्य प्रदेश), महाराष्ट्र से बब्बन भाई और संदीप परदेसी और आंध्र प्रदेश से लक्ष्मण राव शामिल हुए।


गांधीजी की 150वीं जयंती और समाजवादी आंदोलन के 85 वर्ष पूरा होने के अवसर पर स्वतंत्रता आन्दोलन, समाजवादी आन्दोलन के मूल्यों की पुनर्स्थापना तथा संवैधानिक मूल्यों की स्थापना हेतु यह यात्रा निकाली है। अब तक यात्रा में 10 राज्यों में 134 कार्यक्रम हो चुके हैं। पहले चरण की यात्रा 16 राज्यों में होकर 23 मार्च को हैदराबाद में पूरी होगी जहां डॉ. लोहिया के जन्मदिवस और शहीद भगत सिंह जी के शहादत दिवस के अवसर पर समाजवादी समागम आयोजित किया जाएगा।